Wednesday, February 28, 2018

ईश्वर

मैं प्रेम पूरित
मैं करुणचित्त
तुम नित्य मेरी
ममता जनित
सब और से
स्नेह निहित
तुम बूझ लो
यह सर्वविदित।

No comments:

Post a Comment