Sunday, December 5, 2010

कुछ कुछ आवारापन

सुबह की पहली किरण को
सबसे पहले पकड़ लेने के मनसूबे लिये
पर्वतों के कदम छोटे करने में व्यस्त हो रही हूँ .....

तितलियों के पंखों को
उन किरणों की चमक से
रोशन करने की चाहत लिये
बगीचे के फूलों को अपनी बातों से फुसला रही हूँ.....

और इस चमक से
नूरानी हुये मेरे चेहरे पर अठखेलियाँ करती हंसी,
कहीं ठहरने की हसरत लिये
किरणों, फूलों और तितलियों संग
कुछ कुछ आवारापन कर रही है.