Wednesday, February 28, 2018

कविता हूँ मैं

तुम्हारी किताब में  लिखी हुई, 
बेअंत नज़्म हूँ मैं,
तुम्हारे शब्दों में कही गई, 
आँखों में ठहरी हूँ मैं ,
तुम्हारे ख्वाब में पली हुई ,
हज़ार रंगों की कविता हूँ मैं .
यूँ पढ़ना मुझे तुम, कि मेरे 
सारे रंग तुम में समा जायें।



No comments:

Post a Comment