Wednesday, February 28, 2018

मौला

मैंने उड़ान भरी
पंछियों की तरह 
मैंने नृत्य किया 
सूफ़ियों की तरह 
मेरी देह 
मिट्टी की हुई 
उड़ी,
लचकी,
ढह गई


*****************

मैं सजदा करूँ,
मुझे थाम लेना मौला
मैं बिछड़ जाऊँ,
मुझे खोज लेना मौला
मैं भूलूँ,
तुम न भूलने देना
मेरा चेहरा,
तेरी ही पहचान मौला।


******************

तू ही रंग 
तू ही बेरंग 
तुझसे प्रेम 
तुझसे ही जंग 
मैं इक परछाई 
बेनूर 

तेरे बिन मौला 
आ, रंग मुझे
तेरे रंग मौला 
इस वजूद को 
जलवा दे मौला 



No comments:

Post a Comment