Friday, April 30, 2010

एकांत

दीवारें (अनधिकृत परेशानियाँ ) शोर करें और उन्हें शांत होने को ना कह सकें, ऐसा एकांत अपने ही वजूद में गहरे... और गहरे घाव करता जाता है.
अध्यात्म की दुनिया से विवेचनाओं की कुछ बूंद अमृत प्राप्त करने को सिसकता मन दिमाग के बंद दरवाजों पर दस्तक देते हार जाता है और मस्तिस्क एक जिद्दी बालक सा हठ लिये अपने अस्तित्व को खोजने नहीं देता. हार और समर्पण एक दूसरे के पूरक लगने लगते हैं. जीतने से भी विवेक लौट तो नहीं आता !!!!





कहीं पास ही किसी मधुर गीत के स्वर अचानक आमंत्रित करते हैं (शायद किसी का मोबाइल है) और मन चल पड़ता है उन स्वर लहरियों के भ्रमित मायाजाल की ओर..... इस मोह जनित भटकाव को ईश्वर की लीला कह कर झूठे सुकून से मन को बहलाया जाता है और अपने निश्चित लक्ष्य को भूल, भटकी राहों पर उठे क़दमों को दोबारा वास्तविकता की ओर मोड़ लाने का संकल्प मन को याद आ जाता है. पर भावनाओं के गहरे भंवर से लौटना इतना आसान तो नहीं होता................!!!!!

Wednesday, April 14, 2010

परछाईयों का शहर 4 (अंतिम भाग)

गतांक से आगे....

"रामधारी ले चलो इन्हें पूछ ताछ के लिये."
"येस सर."
पुलिस के साथ उन तीनों की पूछताछ चल रही है.
"ड्रग्स का तस्करी में पकड़ा गया है तुम लोगों को .... मालूम है ना कितना बड़ा जुर्म होता है ये?"
तीनों गर्दन झुकाए अपनी आने वाली मुश्किल का ताना बना बुन रहे हैं. उनसे वो सवाल पूछा जा रहा है, जिसका जवाब उन्हें पता ही नहीं है. उन्हें तो यह भी नहीं पता कि कपडे में ड्रग्स कहाँ से आया!!! तस्करी तो बड़ी दूर की बात है, तीनों ने कभी ड्रग्स की शक्ल भी नहीं देखी.

"देखो, तुम तीनों अब तक दुनिया में खड़े होना भी नहीं सीखे हो... कोई तुम्हारा नाजायज़ फायदा उठा कर बच रहा है और तुम पकडे गये हो, अब अगर यहाँ से बच कर जाना चाहते हो तो सीधे सीधे बता दो कि तुम किसके लिये काम करते हो?"
"साहब, बताया ना कि हम रविन सर के लिये काम करता है...."
"फिर झूठ!!!!! ऐसा नाम का कोई आदमी है ही नहीं."
"तुम तीनों भले घर के दिखते हो, क्यों बेफालतू के लफड़े में पड़ते हो, तुम सिर्फ अपने मालिक का नाम बता दो, आगे हम देख लेंगे.समझाओ भाई ... कोई समझाओ इनको"
"हम सच बोलता है साहब..." मनीष खुद को एकदम असहाय पाता है, उसे कुछ सूझ नहीं रहा कि क्या करे, कैसे समझाए!!!
"साहब, आपको मांगता तो हम फिर से अपना ऑफिस ले चलता है ना आपको."
"ऑफिस ले चलेगा!!! उधर ना कोई तुझे पहचानता है ना तू किसी को पहचानता है.... हाँ!! चल, ले चल ना !!! (इंस्पेक्टर उन्हें चिड़ाते हुये बोलता है) अब तो लगता है तुम लोग इसी जेल की चारदीवारी में परमानेन्ट बसने वाले हो. क्यों भाई आराम से तो हो ना? तुम्हारे वास्ते खटिया मंगाये दूं?"
"गला सूख रहा है साहब, थोडा पानी मिलेगा?"
"पानी पीना है....हाँ मिलेगा ना, जरूर मिलेगा... हवलदार, इन साहब को पानी चाहिए, जाओ ले आओ पानी."
हवलदार पानी लाता है, इंस्पेक्टर मनीष के चेहरे पर पानी फेंकता है, "क्यों इतना पानी बहुत है या और मंगवाऊं?
"हमें छोड़ दो साहब, हम सच कह रहे हैं, हमने कुछ नहीं किया.... आई!! देवा!! बचाओ!!!"
"अब तुम्हे भगवान् याद आ रहे हैं, जब ऐसा गन्दा काम करते हो तब भगवान् याद नहीं आते? हाँ??"
"अब कैसे बतायें तुम्हे साहब, हमने कुछ नहीं किया...हमने कुछ नहीं किया...हमने कुछ नहीं किया." मनीष रोता है.
"हवलदार, यह ऐसे नहीं मानेगा, एक बाल्टी पानी और ले आओ."
"क्या हुआ रे मनुआ? क्यों चिल्ला रहा है?" मनीष को अपनी आई की आवाज़ सुनाई देती है.
"आई!! तू आ गई आई!!! देख आई देख, तेरे मनु को कैसे सता रहे हैं यह पुलिस वाले!!!"
इंस्पेक्टर फिर से उस पर पानी फेंकता है, मनीष रोता है और चिल्लाता है,"आईइ इ इ इ इ !!!"
"अरे चल उठ मनुआ!!! कब तक नींद में चिल्लाता रहेगा!!!"
मनीष हडबड़ाहट में उठता है, "आई! आई!!! यह तू है? इतना पानी डालने की क्या जरूरत थी आई?"
"साहब, साहब, हम कुछ नहीं किया साहब!.... अरे तू नींद में ऐसा बड़बड़ाता रहेगा तो तेरेको कैसे जगाये कोई!!!" आई खिलखिलाकर हंस पड़ती है.
"क्या आई!! तू ना कभी बच्चों से भी छोटी बन जाती है. मैं सीरियस सपना देख रहा था और तू हंस रही है? मालूम तेरे को, सपने में पुलिस पकड़ कर ले गई मेरे को, मेरी तो हालात हीच खराब होने को थी, वो तो देवा बचाया मेरेको... नहीं नहीं...आई, तुने बचा लिया आज."
"हाय देवा!!! मनुआ, तू ठीक तो है रे?
"हाँ आई! अब्बी ठीक है मैं, पन थोड़ी देर पहले ऐसा लगा कि गया अपुन तो काम से." मनीष आँखें झपकाते हुये फिर से अपने कमरे को और सामने खड़ी आई को देख कर खुद को आश्वस्त करता है कि अब सब ठीक है.
"क्या क्या सोचता रहता है रे तू! देवा है ना तेरे साथ... कुछ नहीं होने देगा तेरेको."
"हाँ आई, तेरा आशीर्वाद भी तो है.... तब्बी तो इधर तक पहुंचा है."
"चल, अब देर ना कर, तैयार हो जा, तेरा साहब आता होगा, मालूम ना समय का अंग्रेज है वो."
"हाँ आई, तू डब्बा बना, मैं अभी आया ."

समाप्त.


Wednesday, April 7, 2010

परछाईयों का शहर 3

इसके पहले -

गतांक से आगे......

5 महीने बाद

मनीष और उसके साथी शिपमेंट उतार रहे हैं, कुछ कस्टम ऑफिसर वहाँ पर चेकिंग के लिये आये हैं, मनीष के 3 साथी तत्काल भाग जाते हैं, मनीष और उसके दो साथियों से ऑफिसर जांच पड़ताल करते हैं.
"क्या हो रहा है यहाँ?"
"माल उतार रहे हैं साहब."
"तुम्हारे साथी भाग क्यों गये?"
"पता नहीं साहब... कोई लफड़ा किया रहेगा..."
"अच्छा दिखाओ, क्या है माल में !!!"
"कपड़ा है साहब..."
"खोलो ज़रा, देखें कैसा कपड़ा है?"
"रामधारी, चेक करो यह सामान"
"यस सर"
.....
" सर, इसमें यह कोकीन बरामद हुआ है.."
"क्यों बे!!! तुम तो कह रहे थे कि कपड़ा है, एक तो सरकार की आँखों में धूल झोंकते हो, और ऊपर से झूठ भी बोलते हो, रामधारी ... लगाओ इन सब को हथकड़ी और ले चलो हमारे ऑफिस ."
"साहब , हमारा कोई कसूर नहीं, हम तो बस सामान उतारते हैं, यह तो कम्पनी वालों का सामान है, आप कहो तो हमारे साहब से बात करवा दें."
"अब बात- वात थाने पहुँच कर ही होगी."
"हम सच कह रहे हैं साहब, हमारा कोई दोष नहीं, हमें तो पता भी नहीं साहब कि इसमें कोकीन है..."
"बस्स्स... चुप रहो. ज्यादा बक बक मत करो."
"साहब , सुन तो लो हमारी बात..."
"रामधारी, यह माल ज़ब्त कर लो और इन्हें ले चलो ."
उन तीनों को ड्रग्स तस्करी के अभियोग पर गिरफ्तार कर थाने ले जाते हैं .
"सर, एक बार हमारे ऑफिस बात कर लेने दीजिये.... प्लीज़."
" हाँ सर, तब आपको भी यकीन हो जायेगा कि इसमें हमारा कोई दोष नहीं ...प्लीज़ सर."
"यह भी ठीक है, रामधारी, गाडी इनके ऑफिस ले चलो, वहीँ पता चल जायेगा कि मामला क्या है..."
"तुम्हारे ऑफिस का पता बताओ...."
"फेब्रिक एन फेब्रिक कम्पनी........."
******
सब लोग फेब्रिक एन फेब्रिक कंपनी पहुँचते हैं, मनीष और उसके साथियों को लेकर ऑफिसर अन्दर दाखिल होता है.
" हेल्प डेस्क की लड़की अनजान लग रही है, शायद कोई नई लड़की है, दूसरे डिपार्टमेंट्स के लोग भी अनजान लग रहे हैं , जाने सब लोग कौन हैं???"- एक साथी आश्चर्य से कहता है.
"हाँ, यहाँ तो सब चेहरे अनजान लग रहे हैं...!!!!!"
"चलो रविन सर के लिये पूछते हैं..." मनीष सुझाव देता है .
"मैडम, रविन सर से बात करनी है."
"हू आर यू? एंड हू इस रविन? व्हाट डू यू वांट ?"
" मैं मनीष हूँ और इस कम्पनी में रविन सर ने काम दिलाया था, आप शायद नई हैं और उन्हें नहीं जानती."
"व्हाट!!! इ हेव बीन वर्किंग हियर सिन्स पास्ट एट ईयर्स, इ हेव नेवर सीन यू बीफोर एंड मोर ओवर नो वन नेम्ड रविन वर्क्स हियर .एनी थिंग एल्स ?"
"रामधारी, ले चलो इन तीनों को, यह लोग हमारा समय नष्ट करने के लिये किसी गलत जगह पर ले आये हैं."
"नहीं साहब, हम सच कह रहे हैं , यही हमारा ऑफिस है, रोज़ का आना जाना होता है यहाँ हमारा..."
" अच्छा, रोज़ यहाँ आते हो... तब किसी को तो पहचानते होगे???"
तीनों के चेहरे लटक गये.. कोई भी चेहरा उन्हें पहचाना हुआ नहीं लग रहा.
"यही तो मुश्किल है साहब, आज कोई भी पहचान में नहीं आ रहा."
"पता नहीं क्या माजरा है!!!!"
तीनों पशोपेश में एक दूसरे को देख रहे हैं, उनकी हैरानी अब डर में बदलती जा रही है.

क्रमशः ........

इसके बाद यहाँ पढ़ें -