Wednesday, March 31, 2010

परछाईयों का शहर 2

इसके पहले

गतांक से आगे....

मनीष के घर का दृश्य

"आई....!!! ओ आई!!!"
"दरवाजा खोल आई!! मैं हूँ, मनीष."
"आज बड़ी देर कर दी आने में मनु!!! कहाँ गया था रे? बाबा अभी अभी तेरी राह देख सोया है."
हाँ आई, आज एक भला मानुस मिल गया था, रस्ते में , उसके साथ बातें करते देर हो गयी."
"कौन था रे? यूँ अजनबी लोगों से बात ना किया कर, कभी कुछ जादू टोना कर दिया तो हम तो कहीं के न रहेंगे, देवा !!!!कुछ समझा बिटुआ को."
"नहीं आई, सच में भला इंसान था, देख, उसका कारड भी है मेरे पास."
और मनीष अपनी माँ को खाना खाते खाते सारी कहानी बताता है.
"कल ही जाता हूँ आई, ये साहब से मिलने.....फिर वो सारा दिन दूकान पर बैठ कर थोड़ी कमाई की जगह, बहुत पैसा लाऊंगा, प्रीती से शादी करके हम सब एक नवे फ्लैट में शिफ्ट हो जायेंगे, एक कार भी खरीद लेंगे आई, फिर तुम्हे रोज़ मार्केट पैदल नहीं जाना पड़ेगा. हम भी एक बड़ा आदमी बन जायेगा, और लोग मुझे सलाम करके मनीष साहब बुलायेंगे."
"मनु!!!!! मनु!!!! सपने देखने बंद कर और जल्दी खाना खा ले, कल सुबह तुझे नौकरी पर जाना है रे. चल, देर ना कर."
"क्या आई!!! तू मुझे सपने में भी बड़ा आदमी नहीं बनाने देती!!!!"
" बिटुआ, इंसान सपने देखने से नहीं, मेहनत करने से बड़ा बनता है, जिस दिन तू यह समझ जायेगा तो खुद ही बड़ा आदमी बन जायेगा रे."
"आई, तेरा बेटा बहुत मेहनत करेगा और सारे सपने सच कर लाएगा, देखना तू."
"जो भी काम करना बिटुआ, बहुत संभाल कर करना, इस शहर में आदमी कम और परछाइयाँ ज्यादा बसती हैं, एक पल को आदमी तुझसे बात करते दिखेगा और अगले ही पल तुझे पहचानेगा भी नहीं, साये से भी जल्दी साथ छोड़ देते हैं इस शहर के लोग."
"हाँ आई, मैं ध्यान रखूँगा, तू चिंता ना कर."
"चल अब चल कर सो जा."

* * * * * * * * * *


रविन के घर का दृश्य
"हाय स्वीटी!!!"
"हाय रविन"
"डैड और माम सो गये?"
"हाँ काफी देर हुई,उन्हें सोये हुये,तुम जानते हो ना,दोनों जल्दी उठा कर जोग्गिंग को जाते हैं, बोथ आर वेल ओर्गेनाइसड."
"एक तुम ही हो जो टाइम का ध्यान नहीं रखते, कहाँ देर हुई आज?"
"तसल्ली से बैठ कर बताता हूँ जानू , पहले कुछ खिलाओ पिलाओ यार, बड़ी भूख लग रही है"
"अच्छा जी!!! तो जनाब को भूख भी लगती है !!!! आज चाँद कहाँ से निकला है, देखना पड़ेगा!!!!"
"मजाक मत करो स्वीटी डार्लिंग, सच में भूख लग रही है, क्या बना है आज?"
"चलो, तुम फ्रेश हो कर आओ, तब तक में देवा चाचा को कहती हूँ खाना लगाने को."
"ठीक है, बलदेव से भी कह देना कि कार गेराज में पार्क कर दे."
"ओ.के."

रविन और स्वीटी खाना खाते हुये बातें करते हैं.
"ये चाचा क्या कमाल का खाना बनाते हैं , जी कर रहा है बस खाता ही जाऊं."
"बस!! बस!! रहने भी दो, कभी घर पर खाना खाने का टाइम मिलता है तुम्हे?? "
"तुम्हे तो पता है यार, कितना काम रहता है ऑफिस में, फिर मीटिंग्स, क्लाइंटस को डिनर पर ले जाना.... अच्छा!!! आज,पता है क्या हुआ??"
"क्या हुआ डिअर ?"
"ऑफिस से निकला तो एक लड़का मेरी कार को बड़े गौर से देख रहा था , मैं समझा कोई चोर है, कार चुराना चाहता है शायद, मैंने उसका पीछा किया और पकड़ लिया उसे, पर बड़ा ही मजेदार बंदा निकला वो तो."
"देखो रविन, ऐसे लोगों से दूर ही रहा करो, गार्ड से क्यों नहीं कहा उसे पकड़ने को, तुम्हे कुछ कर देता तो!!"
"अरे यार गार्ड बड़ी दूर था, अगर उसे बुलाता तो वो लड़का भाग जाता, और यूँ भी अच्छा ही हुआ जो पकड़ा उसे, एक नये लड़के की जरूरत भी थी, अपना विसिटिंग कार्ड दे कर आया हूँ, जरूरतमंद लग रहा था, देखना कल ही मेरे ऑफिस पहुँच जायेगा."
"सारे जरूरतमंद लोग जाने तुम्हे ही कैसे मिल जाते हैं???."
रविन मुस्कुरा कर बोला," तुम्हारे लिये एक नया डायमंड नेकलेस देखा है, परवेश को कहा है, कल घर ले आएगा, तुम्हे पसंद आये तो रख लेना. "
"वाव !!!!! तुम बहुत समझदार हो, और बातों को घुमाना भी खूब आता है तुम्हे."

************

रविन का ऑफिस
"सर, सम मनीष नेम्ड परसन हेस कम टू मीट यू ."
"ओ.के., सेंड हिम इन आफ्टर ट्वेंटी मिनिट्स."
"ओ.के. सर."

-----
"अपुन अन्दर आयें क्या साहब??"
"अरे मनीष!!! आओ, आ जाओ!!!"
"बैठो, बैठो ...चाय , काफी कुछ लोगे?"
"क्या साहब, काहे शर्मिंदा करता है!!!"
"अच्छा कहो, कैसे आना हुआ?"
"साहब... वो..... आपने बोला था ना, कुछ काम दिलाएगा....."
"अरे हाँ, देखो , हमारी कम्पनी कपड़ा इम्पोर्ट करती है, हर 15 दिन में बाहर से शिपमेंट आता है, तो हमारी टीम को एक लड़के की जरूरत है. जो बड़े व्यापारियों को माल जाता है, उसके साथ, तुम्हे जाना होगा और रसीद पर उनके साइन करा कर लाना होगा, अगर तुम्हे कोई समस्या ना हो तो, मेरी सेक्रेटरी से कह देता हूँ, वो तुम्हारा कांट्रेक्ट बना देगी. "
"बस साहब, इत्ता सा काम!!!! इसका तो आप मेरे को बहुत कम पगार देगा......"
" 50 ,000 रुपया महीने का देंगे , अगर तुम्हे कम लगता है....."
"अरे नहीं साहब, यह तो बहुत पैसा है....... पन एक बात बताओ, इतने से काम का इतना पैसा देंगे, कहीं कोई गलत धंधा तो नहीं है ना साहब???"
"देखो मनीष, बड़ी जिम्मेदारी का काम है यह, बहुत पैसा इधर से उधर होता है इस काम में, तुम्हे बाहर गाँव जाना पड़ेगा, व्यापारी लोग तुम्हे पैसा देंगे , जो लाकर तुम्हे यहाँ अकाउनटेंट को जमा करना होगा, इसीलिए, इतना पगार दे रहे हैं, तुम्हे नहीं करना यह काम , तो......"
"नहीं, नहीं साहब, बोलो कब से आना होगा काम पर? अपुन को पूरा भरोसा है आप पर साहब."
"बाहर मेरी सेक्रेटरी से बात कर लो , वो सब बता देगी तुम्हे."
"अच्छा साहब, चलता है , थेंक यू."

************

क्रमशः ........

Thursday, March 25, 2010

परछाईयों का शहर 1

"रुको!!"
"ए! तुम!!"
"रुक जाओ!!"
जैसे जैसे आवाज़ पास आ रही थी, उसके कदम और तेजी से आगे बढ़ रहे थे, पर पीछा करने वाले के कदमों की गति हवा की तरह रही होगी जो पल भर में ही उसके पास पहुँच कर उसे पीछे से पकड़ लिया... उसने डर के मारे पीछे मुड कर देखना भी गवारा नहीं किया.
"तुम भाग क्यों रहे थे?"
"मैंने कुछ नहीं किया है साहब.... ",उसकी आवाज़ रोने सी हो रही थी....
"फिर भागे क्यों?" पीछा करने वाले की नरम आवाज़ सुनकर अबकी बार उसने पीछे मुड कर देखा. सूट- बूट में सभ्य और शालीन एक व्यक्ति उसकी बांह पकड़ कर उस से सवाल कर रहा था.
"साहब , वो ... वो प्रीती है ना.... कहती है, उसे मर्सडीज़ लाकर दूं तो ही मुझसे ब्याह करेगी, अपुन के पास तो पैसा है नहीं, आपकी गाडी खड़ी थी तो बस उसे ही देख रहा था कि मर्सडीज़ कैसी होती है.... सपना देखने का पैसा नहीं लगता ना साहब??? पर यह छोकरी लोगों को कौन समझाए कि पैसा पेड़ पर नहीं लगता..." भय को खोये हुये ज़माना गुजर गया और वो इस तरह पीछा करने वाले से बात कर रहा था जैसे जन्मों से जानता हो.
पीछा करने वाले को हंसी आ गई, और वो उस लड़के को साथ लेकर एक पेड़ के नीचे बैठ गया ,"क्या नाम है तुम्हारा?"
"मनीष..... साहब आपकी शादी की हुई है?"
"हाँ..."
"फिर आप इत्ती रात गये इधर काहे ? आपको तो अभी अपनी बीवी के साथ होना मांगता न!!!"
"ह्म्म्म ....होना तो मांगता......"
"बस बस, मैं समझ गया साहब...यह छोकरी लोगों को कित्ता भी दो , कभीज़ खुश नहीं होती, तब्बी तो आपके जैसे बाबू लोग भी रात गये सड़कों पे भटकते फिरते हैं...क्यों?? है ना यहीच बात!!!!"
उसे फिर से हंसी आ गई," नहीं मनीष, ऐसी कोई बात नहीं है, मेरी बीवी बहुत समझदार है और बहुत अच्छी भी, मेरा ऑफिस घर के पास में ही है, तो कभी कभी काम करते देर हो जाती है, तुम्हे अपनी गाडी के पास देखा तो तुम्हारा पीछा करते यहाँ आया और तुमसे निपटने को रुक गया."
"समझे क्या???" अबके उसने भी मनीष की टपोरी भाषा में बोला और खुद ही हंस पड़ा .
उसके साथ मनीष भी हंसा और कहा,"साहब, आपकी बीवी शिकायत नहीं करेगी इत्ती देर से घर जाओगे तो?
"हाँ, शिकायत तो करेगी पर मैं प्यार से उसे मना लूँगा."
"यहीच लफडा अपुन को नहीं पालना, पहले शादी करो, फिर नखरे सहो और फिर मनाते रहो जीवन भर... मनाना बोले तो मस्का पोलिश...है ना साहब? अरे वो अपनी प्रीती है ना...वो भी बात बात पर रूठ जाती, फिर बोलती आज आइस क्रीम खिलाओ , आज सिनेमा चलो, आज चोक्लेट ले आओ, आज नया ड्रेस दिलाओ .... और भी ना जाने क्या क्या!!! आज नवी फरमाइश करती है कि मर्सडीज़ चाहिए, तुम ही कहो साहब, मैं एक छोटी दूकान में नौकरी करने वाला, ऐसी गाडी किधर से लाएगा? अपुन ने तो डीसाइड कर लिया है कि अपुन कभी शादीच नहीं करेगा, क्यों साहब करेक्ट सोचा ना?"
"मनीष , मेरे भई, शादी को लोग एक लोटरी कहते हैं, शादी के बाद किसी का जीवन संवर जाता है और किसी का घर तबाह हो जाता है, पर एक बात सच है कि अगर ये छोकरी लोग ना हो तो आदमी का जीवन एकदम नीरस हो जाये, तुम कुछ भी फैसला करने से पहले सोचो तो सही कि वो तुम्हारी प्रीती है तो तुम उसके साथ कितने खुश रहते हो, क्यों है ना सच?
मनीष शरमाकर गर्दन नीचे करके बोला, " सच्ची साहब, वो होती है तो हम दोनों कितनी बातें करते हैं, कभी कभी चौपाटी पर घुमने भी जाते हैं, और दोनों ही खुश रहते हैं, मेरे को मालूम है कि वो कभी भी कुछ भी मांगती पर दिल की बड़ी अच्छी है साहब , वो दिन मेरेको बुखार आया तो पूरी रात मेरी सेवा की, मेरी आई बोलती कि, मनु, तेरे जैसे गधे को इतनी समझदार लड़की किधर से मिली रे? ".
"वो तो आई को मैंने हीच रोक रखा है, उसका बस चले तो आज ही मेरी शादी करा डाले"

फिर वो सुनसान, पथिक हीन सड़क उन दोनों के गूंजते कहकहों की गवाह बन गई .
"मनीष, तुम कभी आना मेरे ऑफिस, कोई अच्छी नौकरी मिली तो दिलाऊंगा तुम्हे. यह मेरा विसिटिंग कार्ड रख लो."
"थेंक यू साहब जी , जरूर आऊंगा."
दोनों विदा लेकर अपने अपने घर की और चल देते हैं.

* * * * * * * * * *

क्रमशः ......

इसके बाद यहाँ पढ़ें -


Wednesday, March 10, 2010

कुछ यूँ ही....

"तेरे जीने को लम्बी उम्र मांग तो ले पूजा,
फिर सवाल न करना कि मेरी खता क्या थी?"

"दुश्वार जीवन को हासिल ख़ुशी कर दे मौला,
मेरे ग़मज़दा होने की दुआ में तेरी रज़ा क्या थी?"

"ले आज फिर मेरी बलाओं का सदका ए खुदा,
मेरी चाहतों की इस से बड़ी सजा क्या थी?"

आँख से गिरा हर अश्क तेरी दास्ताँ बयाँ किया,
तू ही न सुने तो अश्क की मजबूरी क्या थी ?"