सोमवार, 4 अक्तूबर 2010

तलाश

1. ज़िन्दगी भर जिसे
तलाशता रहा मैं...
आँखों की कोर में
भीगी
वो ख़ुशी
मुझे कभी दिखी नहीं।

2. ढलता हुआ सूरज
रोशन कर रहा था,
मेरे अस्तित्व को
और मैं...
खुद को ढूंढ़ रही थी
अपनी ही परछाई में।

3. क्षण-प्रतिक्षण
अपनों के साथ में,
ढूँढ़ा किये दोस्ती को,
मगर नज़र से छिपा रहा...
पल-पल साथ रहा जो मन।

हिंद युग्म में प्रकाशित क्षणिकाएं.

9 टिप्‍पणियां:

  1. पहले पढ चुकी हूँ मगर बार बार पढने वाली रचनायें है। बधाई।
    कृ्प्या मेरा ये ब्लाग भी देखें
    http://veeranchalgatha.blogspot.com/
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति....

    नवरात्रि की आप को बहुत बहुत शुभकामनाएँ ।जय माता दी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्यवाद डॉ.शास्त्री जी,
    कृपया अपना आशीर्वाद बनाए रखें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुक्रिया निर्मला कपिला जी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आभार संजय जी|
    आपको भी नवरात्रि की शुभकामनाएं|

    उत्तर देंहटाएं
  6. ढलता हुआ सूरज...
    ...मेरे अस्तित्व को...

    और मैं खुद को ढूंढ रही थी...
    अपनी ही परछाई में...

    सबसे अह्छी क्षणिका लगी.....

    उत्तर देंहटाएं