Saturday, March 24, 2018

बादाम के पुष्प





 



बादाम के पुष्प
जब भारत से स्पेन आई तो यहां उगने वाले फूलों से भी धीरे धीरे परिचय होने लगा। पिछले अट्ठारह साल में मुझे हमेशा से ही ये बसंत में खिलने वाले बादाम के पुष्प अपनी और बेहद आकर्षित करते हैं। Prunus Dulcis इसका वैज्ञानिक नाम है और आम तौर पर यह बादाम के वृक्ष के नाम से जाना जाता है। यहां स्पेन में Almendro के नाम से पहचानते हैं इसे।
स्पेन में स्प्रिंग/बसंत आने से कुछ पहले ही फरवरी में बादाम के खुशबूदार, नरम ओ नाज़ुक फूल खिलते हैं और इनकी सामूहिक प्राकृतिक छटा अद्भुत नज़ारा चारों और बिखेरती है। इनकी नज़ाकत का आलम यह है कि हवा के बहने भर से ही ये सुन्दर पुष्प दल बिखर कर ज़मीन पर गिर जाते हैं, उस पर यदि बारिश जल भी गिरने लगे तो ये अद्भुत कुसुम दल अल्प आयु में ही वृक्ष से विदा ले लेते हैं । वैसे यह भी प्रकृति की ही लीला है कि प्रकृति इन दिनों जब भिन्न पुष्प दल विकसित कर रही होती है ठीक इन्ही दिनों इंद्र देव भी अपनी मेघ सेना की उपस्थिति से स्पेन के जलाशयों में जल संग्रह का कार्य कर रहे होते हैं।
मद्रिद में कई जगहों पर इनके अर्थात बादाम के आलंकारिक वृक्ष रोपे हुए हैं। यहां शहर के विभिन्न हिस्सों में बादाम के पेड़ आसानी से दिख जाते हैं और मद्रिद शहर में ही अलकाला स्ट्रीट के 527 नंबर पर स्थित सार्वजानिक उद्यान में लगभग 1500 बादाम के वृक्ष एक साथ खिले हुए देखना चाहते हों तो Quinta de los Molinos (Madrid) उद्यान में पहुँच कर इस नैसर्गिक जामुनी रंगी उत्सव का अवश्य आनंद लीजिये।
धूप में उगने वाले लगभग दस मीटर के इस पेड़ पर चार या पांच पुष्प समूह में फूल खिलते हैं। पांच पंखुड़ियों वाला यह करीब एक इंच का द्विलिंगी पुष्प सफ़ेद से हलके गुलाबी रंग का होता है। एक ही पुष्प में पंद्रह से तीस पुंकेसर लगे होने से पंखुड़ियाँ कुछ कुछ छींटदार दृश्यमान होती हैं। और जब पर्ण विहीन वृक्ष कुसुमाकर प्रतीत होता है तब कल्पना में ही यह गुलाबी जमुनी दृश्य रोमांच पैदा कर देता तो सदेह उपस्थिति का आलम कैसा होगा यह वर्णन करना कठिन है।
मौका मिले तो दुनिया के विभिन्न देशों में स्थित इन पुष्पों से परिचय अवश्य करें। यक़ीन मानिये आप जैसे ही इनके क़रीब जायेंगे ऐसा प्रतीत होगा कि ये पुष्प आपसे बातें करने को उत्सुक हैं, मानो इन्हें बरसों से आप ही की प्रतीक्षा थी। इनका कोमल स्पर्श ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे आप देवलोक की सैर कर रहे हैं । इन दिनों मैं समय मिलते ही मद्रिद में इन कुसुम दलों से बतियाने निकल पड़ती हूँ, अवसर मिले तो आप भी निकल पड़िये लेकिन ध्यान रखिये कि यह प्राकृतिक नज़ारा सिर्फ़ फरवरी से अप्रैल तक ही दृष्टिगोचर होगा।
साहित्य और कला में भी इस पुष्प की उपस्थिति बहुतायत से विद्यमान है। यहां तक कि इस पुष्प के लिए साहित्यिक प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाता है। जन मानस से जुड़े इस पेड़ और फूल को लेकर अक्सर लोग उत्साहित रहते हैं। पलेस्टाइन के प्रसिद्ध कवि महमूद दार्विक्स ने अपनी अंतिम पुस्तक का नामकरण बादाम के पुष्प के नाम पर ही किया, उसी किताब से इस पुष्प को समर्पित कविता से कुछ पंक्तियाँ देखिये:-
बादाम के फूल का
वर्णन करने के लिए
वनस्पति शास्त्र का कोई
प्रामाणिक विश्व कोश नहीं
कोई शब्दकोष भी नहीं
भाषाई शब्द अलंकार के जाल में फँसूँगा मैं /
और अलंकारिक भाषा से ज़ख़्मी होगी चेतना
और यही ज़ख्म का यश गान करेगी
ठीक उस मर्द की तरह
जो अपनी स्त्री को भावुकता का आज्ञापत्र लिखवाता है
यदि मैं अनुगूँज हूँ तो....
मेरी बोली में बादाम के पुष्प को कैसा प्रदीप्त होना चाहिए? शायद इस तरह...
पारदर्शक, जैसे पानी सी हंसी
टहनियों पर लजीली, ओस की बूँद सा
सौम्य, रसीले उज्जवल वाक्य की तरह
नाज़ुक, उस लम्हे की तरह जो
किसी खयाल हमारी उंगली के पोर से झांकता है
और निष्प्रयोजन हम लिखते हैं...
घनीभूत, उस कविता की तरह जो
शब्दों से नहीं लिखी जाती
बादाम के पुष्प का वर्णन करने के लिए
मुझे अचेत भ्रमण पर जाना होगा
जहाँ शब्द कोष पर प्रबल हो
वृक्ष से लिपटी हुई भावुकता
.......
(स्पेनिश से अनुवाद- पूजा अनिल )
Vincent van Gogh ने इस पुष्प को लेकर कुछ पेंटिंग्स बनाई हैं। इंटरनेट पर Almond Blossom / Almendro En Flor लिखेंगे तो आसानी से मिल जाएँगी वे तस्वीरें।
- पूजानिल
- रात के एक बजे इस समय जब मैं यह आलेख लिख रही हूँ, बाहर बहुत तेज़ बारिश हो रही है और वेगवान हवा चल रही है। कांच की खिड़की पर गिरती बूंदों की आवाज़ से प्रतीत हो रहा है कि तेज़ आंधी तूफ़ान मचा हुआ है बाहर। मैं लिखना रोक कर उठकर खिड़की से झाँक आई हूँ, इतनी तेज़/ घनघोर बारिश और हवा है कि कुछ भी दीखता नहीं। इस से मैं यह अंदाज़ा लगा रही हूँ कि बादाम के वृक्ष की जो तस्वीरें मैंने कल उद्यान में लीं थीं, यदि वे आने वाले कल के लिए स्थगित रखती तो निश्चित ही कल यह दृश्य नहीं मिलता। कितना छोटा है जीवन और कितनी बड़ी हैं तमन्नाएँ कि उदासियों के ज़िक्र के बिना मिटती ही नहीं! (तस्वीरें 23 मार्च 2018 को लीं गईं।)

3 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (25-03-2017) को "रचो ललित-साहित्य" (चर्चा अंक-2920) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत पोस्ट

    ReplyDelete