Sunday, December 5, 2010

कुछ कुछ आवारापन

सुबह की पहली किरण को
सबसे पहले पकड़ लेने के मनसूबे लिये
पर्वतों के कदम छोटे करने में व्यस्त हो रही हूँ .....

तितलियों के पंखों को
उन किरणों की चमक से
रोशन करने की चाहत लिये
बगीचे के फूलों को अपनी बातों से फुसला रही हूँ.....

और इस चमक से
नूरानी हुये मेरे चेहरे पर अठखेलियाँ करती हंसी,
कहीं ठहरने की हसरत लिये
किरणों, फूलों और तितलियों संग
कुछ कुछ आवारापन कर रही है.

8 comments:

  1. बगीचे के फूलों को अपनी बातों से फुसला रही हूँ.....
    यह पंक्ति दिमाग पर असर करती है सुंदर रचना

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना. टाइपिंग में एक गलती हो गयी है, उसे सुधर लें. "चहरे"

    ReplyDelete
  3. बस ये अवारागर्दी चलती रहे ............ सुभानअल्लाह .

    ReplyDelete
  4. wah-2 kya likha hai aapnai.......kitni manmohak awaaragadi hai:P... keep it up band mat karnaa...:) bahuut pyaari lagi mujhe:)

    ReplyDelete
  5. bahut khoobsoorat kavitaa...

    bahut hi eemaandaar khayaalon ke saath.....


    kaash...!!!

    ham abhi hindi mein likh paate...!

    ReplyDelete
  6. कुछ-कुछ आवारा पन का जवाब नहीं।...प्यारी कविता।

    ReplyDelete