Friday, May 22, 2009

THEY NEED US - उन्हें हमारी जरूरत है

Today for the first time i visited the blog of Maria Amelia Lopez , blogger, who started blogging at the age of 95 , with the gift of her grandson . There are so many things in her blog to see and to understand about the old age life of any person, but a few lines which had impacted in me are the request made by her to defande the elderly people, where she wants new generation to come up to educate elders, like their children. And i m absolutely in accordance with her that our elders need to revise the education. Why we do not take care of them, when they reaches at the age of 50 and above? It is the time to reeducate them, so the generation gap could be reduced, so that they also can join all the activities in family, and could enjoy time together in the family.
Here I appeal for well needed take care of our elders. They need us।

आज पहली बार, मारिया अमेलिया लोपेज़ , के ब्लॉग पर गई, जिसने ९५ साल की उम्र में, अपने पोते के द्वारा भेंट किए हुए ब्लॉग से ब्लोगिंग शुरू की । उनके ब्लॉग पर बुजुर्ग व्यक्तियों के जीवन से सम्बंधित देखने और पढने के लिए कई बातें हैं, किंतु विशेष तौर पर जिस बात ने मुझे प्रभावित किया वह बुजुर्गों के समर्थन में की गयी प्रार्थना है, जिसमें वो नयी पीढी से आगे बढ़कर अपने बुजुर्गों को पुनः शिक्षित करने के लिए कह रही हैं, जिस तरह वे अपने बच्चों को शिक्षित करे हैं, वैसे ही अपने बुजुर्गों को भी शिक्षित करें। और मैं भी उन की इस प्रार्थना का समर्थन करती हूँ कि हमारे बड़े -बुजुर्गों को पुनः शिक्षित किया जाना चाहिए। हम क्यों उनका ध्यान नहीं रखते जब वे ५० साल या इस से बड़ी उम्र के हो जाते हैं? यही समय है जब उन्हें पुनः मुख्य धारा से जोड़ा जाये ताकि पीढियों के अन्तर को कम किया जा सके , ताकि वे भी पारिवारिक क्रीडाओं में समान रूप से भागीदारी कर सकें और प्रसन्नता प्राप्त कर सकें ।
यहाँ पर मैं अपने बुजुर्गों की आवश्यक सार संभाल करने के लिये अनुरोध करती हूँ । उन्हें हमारी जरूरत है।

6 comments:

  1. आपकी अपील मुझ तक पहुँची। आपने ब्लॉग का यूज़र-इंटरफेस शायद स्पैनिश ज़ुबान में रखा है। हम तो अंग्रेजी-और हिन्दी वाला इस्तेमाल किये हैं, उसे से अंदाज़ा लगा लिया कि कहाँ क्या है।

    ReplyDelete
  2. very good..........
    banaa liyaa blog....
    mubarik ho...

    ReplyDelete
  3. bahut badhiya prayas.......main bhi saath hoo.......
    chaliye koi bhi kaaran ho, lekin apne blog to banaya ....

    -Vishwa Deepak

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद शैलेश जी, अब आपको यह समस्या नहीं आएगी :)
    शुक्रिया मनु जी.
    शुक्रिया तन्हा जी , आप लोगों का साथ ही हमारा संबल है .
    आप सभी का "एक बूँद" पर स्वागत है .

    पूजा अनिल

    ReplyDelete
  5. good yaar
    i like we al have to do it and thinks like to teach our elders.t will help to all of our new generation also

    ReplyDelete