Monday, October 16, 2017

देह से नाता

मैं जब इस जीवन से विदा ले चलूंगी
सोचो, साथ अपने क्या ले चलूंगी?

मेरे दुखों का बिछौना छूटेगा यहीं 
सुखों का खज़ाना भी रहेगा यहीं 
पति का साथ 
न होगा मुझे याद 
बच्चों की किलकारी 
न होगी मुझ पर तारी 
अब न होगी रोज़ रोज़ 
भाई बहनों की नोंक झोंक 
माँ का आशीष प्यार दुलार  
यही पहुंचेगा मुझ तक 
करके हर आकाश पार। 

जब प्राण मेरे तन से निकलेंगे 
सोचो, पीछे क्या मैं छोड़ जाऊँगी ?

न मेरे हाथों में समाएगी 
यादों की पोटली न कहीं छूटेगी 
जो मेरी स्मृति में थे विचरते 
अब मैं उनकी स्मृति बनकर रहूंगी। 
न मेरी अच्छाइयों पर संवाद होगा 
न बुराइयों पर विवाद होगा  
वो जो जीवन  भर साथ चलते रहे मेरे 
बस, उनके मन में छिपा अवसाद होगा 

देह से आत्मा का नाता टूटेगा 
सोचो, तब मेरे साथ कौन होगा?

दीवार पर मेरी तस्वीर टँगी होगी 
मंदिर के भी किसी कोने में सजी होगी 
देवों की तरह करेंगे मेरा पूजन 
दीपक बालकर मेरे आगे होगा तर्पण 
हर उत्सव में  याद करेंगे घरवाले 
फिर धीरे धीरे भूलेंगे मुझे हर पल 
किसी की यादों का पिटारा किसी रोज़ खुलेगा 
पूरा परिवार फिर मुझे अश्रुओं संग याद करेगा। 

इस दुनिया से विदा लेने से पहले 
सोचो, मैं क्या सन्देश देना चाहूंगी?

सुनिए देकर ध्यान 
मुझे आप सबसे यह है कहना  
न शोक करना उचित न विषाद में गढ़ना 
मुझे नहीं दिवार चाहिए 
न किसी की अश्रु नदी में है बहना 
न स्मृति में बसेरा चाहिए 
न दिए की ज्योति में बालना 
बस इतना समझ लेना 
तन मेरा माटी से बना, माटी हुआ 
मन मेरा, आकाश तत्त्व में जा मिला 
स्मृतियाँ, अग्नि को चढ़ीं भेंट 
अस्थिफूल, जल में हुए विसर्जित 
प्राण, मुझे प्रकृति ने ही दिए 
प्रकृति ने ही वापस लिए 
साँसें, जो देह में उठी गिरी 
वो देह के आस पास भटकेंगी 
शेष बचे जगत के 
रिश्ते नाते सम्बन्ध 
वो सब इसी धरा पर मिले, मिटे, बने 
अतः पुनः यही है कहना 
न शोक करना उचित न विषाद में गढ़ना। 

जब मेरी साँसों की डोर काया  छोड़ेगी 
सोचो, तब मैं तुम्हारी श्वास बनकर जी उठूंगी। 
-पूजा अनिल 

3 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (17-10-2017) को भावानुवाद (पाब्लो नेरुदा की नोबल प्राइज प्राप्त कविता); चर्चा मंच 2760 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. भावमय अभव्यक्ति

    ReplyDelete